Advertisment

Do you know when Engineer's Day or Engineers Day is celebrated?

क्या आपको जानते है अभियन्ता दिवस अथवा इंजीनियर्स डे कब मनाया जाता है?

Share This Post

Share on facebook
Share on linkedin
Share on twitter
Share on email
भारत में हर वर्ष 15 सितम्बर को ‘अभियन्ता दिवस’ अथवा ‘इंजीनियर्स डे’ के रुप में मनाया जाता है। इसी दिन भारत के महान् इंजीनियर और ‘भारत रत्न‘ प्राप्त मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म दिवस होता है। आज भी मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को आधुनिक भारत के विश्वकर्मा के रूप में बड़े सम्मान के साथ स्मरण किया जाता है।
इंजीनियर दिवस का इतिहास
एम् विश्वेश्वरैया भारत के महान इंजिनियरों में से एक थे, इन्होंने ही आधुनिक भारत की रचना की और भारत को नया रूप दिया | उनकी दृष्टि और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में समर्पण भारत के लिए कुछ असाधारण योगदान दिया | भारत सरकार द्वारा 1968 ई. में डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जन्म तिथि को ‘अभियंता दिवस’ घोषित किया गया था।
इंजीनियरी भौतिक वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन करती है, औद्योगिक प्रक्रमों का विकास एवं नियंत्रण करती है। इसके लिये वह तकनीकी मानकों का प्रयोग करते हुए विधियाँ, डिजाइन और विनिर्देश प्रदान करती है।
आखिर कौन थे मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया ?
विश्वेश्वरैया का जन्म मैसूर, जो कि अब कर्नाटक में है, के ‘मुद्देनाहल्ली’ नामक स्थान पर 15 सितम्बर, 1861 को हुआ था। उनके पिता वैद्य थे। वर्षों पहले उनके पूर्वज आंध्र प्रदेश के ‘मोक्षगुंडम’ नामक स्थान से मैसूर में आकर बस गये थे। विश्वेश्वरैया ने 1881 में बी.ए. की परीक्षा में अव्वल स्थान प्राप्त किया। इसके बाद मैसूर सरकार की मदद से इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए पूना के ‘साइंस कॉलेज’ में दाखिला लिया। 1883 की एल.सी.ई. व एफ.सी.ई. (वर्तमान समय की बीई उपाधि) की परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त करके अपनी योग्यता का परिचय दिया। इसी उपलब्धि के चलते महाराष्ट्र की सरकार ने इन्हें नासिक में सहायक इंजीनियर के पद पर नियुक्त किया था।

Advertisment

खबरें और भी है ...