Advertisment

Happy Birthday Asha ji: Let's know the special things related to the life of Asha Bhosle

हैप्पी बर्थडे आशा जी : आइए जानते है आशा भोसले के जीवन से जुड़ी खास बातें

Share This Post

Share on facebook
Share on linkedin
Share on twitter
Share on email
नेशनल थॉट्स ब्यूरो : आज देश की मशहूर सिंगर आशा भोसले का जन्मदिन है | 8 सितम्बर 1933 में जन्मीं क्वीन ऑफ हिंदी पॉप के नाम से फेमस आशा भोसले ने महज 10 साल की उम्र में अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत की थी। अपने करियर में उन्होंने 20 भाषाओं में करीब 16 हजार गानों को अपनी खूबसूरत आवाज से सदाबहार बना चुकी हैं। 
 
आशा की आवाज में गाए हुए आइए मेहरबान, आओ हुजूर तुमको, पिया तू अब तो आजा, पर्दे में रहने दो, गरीबों की सुनो, ये मेरा दिल जैसे कई गाने आज भी लोगों की जुबान पर हैं। 
 
आशा और आरडी बर्मन की लव स्टोरी 
सिंगिंग करियर के अलावा आशा और आरडी बर्मन की लव स्टोरी भी काफी सुर्खियों में रही है। आरडी बर्मन उर्फ पंचम दा का रिश्ता भी 1971 में पहली पत्नी रीटा पटेल से टूट चुका था। शादी के आखिरी दिनों में पंचम अपनी पत्नी से इतने परेशान हो चुके थे कि वो घर छोड़कर होटल में रहने लगे थे। इसी दौरान तीसरी मंजिल फिल्म में आशा को आरडी बर्मन के लिए गाने का मौका मिला। धीरे-धीरे दोनों कई प्रोजेक्ट्स पर साथ काम करने लगे जिनमें से ज्यादातर गाने हिट हो रहे थे। गाने के साथ ही दोनों एक दूसरे के प्यार में पड़ने लगे थे।
 
आशा ने महज 16 साल की उम्र मे गणपतराव भोसले से शादी की थी। शादी के कुछ सालों बाद ही दोनों के रिश्ते में कड़वाहट आने लगी। दोनों के बीच बात इतनी बिगड़ गई कि तीसरी प्रेग्नेंसी के दौरान ही आशा पति गणपतराव का घर छोड़कर अपनी बहन के घर आ गईं। आशा और गणपत की दो बेटियां और एक बेटा है। साल 1960 में दोनों ने तलाक ले लिया।

आरडी बर्मन और आशा भोसले के शादी न करने के पीछे थी ये वजह 
आशा और आरडी बर्मन शादी करना चाहते थे लेकिन उनके लिए ये आसान नहीं था। जब आरडी अपनी और आशा की शादी की बात लेकर अपनी मां के पास पहुंचे तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया। इनकार का एक कारण ये भी था कि आशा आरडी बर्मन से 6 साल बड़ी थीं।

 
आरडी बर्मन की मां दोनों के रिश्ते से इतनी खफा दी कि उन्होंने साफ कह दिया कि जब तो वो जिंदा हैं, तब तक दोनों की शादी नहीं हो सकती और अगर वो ये शादी करना चाहते हैं तो आशा को अपनी मां की लाश के ऊपर से घर में लाना होगा। ये सुनकर आरडी बर्मन बिना कुछ कहे ही वहां से चले गए। कुछ सालों के बाद आरडी बर्मन की मां बेहद बीमार रहने लगीं और उन्होंने किसी को भी पहचाना बंद कर दिया, जिसके बाद आरडी बर्मन और आशा ने शादी कर ली।

टूट गई थी आशा भोसले  

शादी के महज 14 सालों बाद ही 1994 में आरडी बर्मन का निधन हो गया, और आशा फिर एक बार अकेली हो गईं। आरडी के निधन से पहले उनकी फाइनेंशियल कंडीशन ठीक नहीं थी जिसके चलते आशा और वो अलग रहा करते थे। लेकिन आरडी बर्मन उर्फ पंचम दा के निधन के बाद वह टूट गई | 

Advertisment

खबरें और भी है ...