You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

Hot winds coming from Pakistan started heating

पाकिस्तान से आ रहीं गर्म हवाएं तपाने लगीं

Share This Post

मार्च का महीना शुरू हुआ तो हल्की-हल्की ठंड बाकी थी, लेकिन होली के आसपास पारा अचानक आसमान चढ़ने लगा। बीते मार्च में इतनी ज्यादा गर्मी पड़ी है कि 121 साल का रिकॉर्ड टूट गया है। भारत में जब से मौसम का हिसाब-किताब रखा जा रहा है तब से ही मार्च महीने में इतनी गर्मी कभी नहीं पड़ी।

उत्तर भारत के राज्यों राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली के अलावा मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भी गर्मी की तपिश महसूस की गई है। चौंकाने वाली बात ये है कि समुद्र तटीय इलाकों और हिमाचल की तलहटी वाले क्षेत्रों में भी तापमान औसत से काफी ज्यादा बना हुआ है।

हमने मौसम विभाग के सीनियर साइंटिस्ट आरके जेनामनि और स्काईमेट के वेदर एक्सपर्ट महेश पलावत से तपती गर्मी को लेकर बात की है। उनका कहना है कि मार्च में इतना तापमान बढ़ना सामान्य घटना नहीं है। मार्च में इतना ड्राई मौसम रहना बहुत ही अजीब है। हमने एक्सपर्ट से इस असामान्य गर्मी के कारण और भविष्य के अनुमानों को समझा है।

भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने भी पुष्टि की है कि 1901 के बाद अब तक मार्च के महीने में इतना तापमान देखने को नहीं मिला। मार्च 2022 में देश का अधिकतम औसत तापमान 33.10 डिग्री सेल्सियस रजिस्टर किया गया है। वहीं इसके पहले मार्च 2010 में अधिकतम औसत तापमान 33.09 डिग्री सेल्सियस था।

मौसम से जुड़ी जानकारी देने वाली संस्था स्काईमेट के वाइस प्रेसिडेंट महेश पलावत कहते हैं, “दिल्ली के लिए ये अब तक का चौथा सबसे गर्म मार्च का महीना रहा है। पिछले 10 सालों में न्यूनतम तापमान का औसत वो भी दिल्ली में सबसे ज्यादा 17.6 रहा है, ये भी एक्सट्रीम वेदर कंडीशन दिखाता है।’

मौसम विभाग के सीनियर साइंटिस्ट आरके जेनामनि बताते हैं, “सामान्य तापमान से जब अधिकतम तापमान 6.5 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा हो जाता है तो उसे सीवियर हीट वेव माना जाता है। वहीं जब ये 4.5 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा होता वो हीट वेव की कैटेगरी में आता है।

एक दिन पहले ही हमने राजस्थान, दिल्ली, दक्षिण हरियाणा में तापमान 42-43 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया है। जबकि इन क्षेत्रों का आमतौर पर तापमान 36-37 डिग्री रहता है। साफ है कि इन इलाकों में सीवियर हीट वेव चल रही है और ये ऐतिहासिक भी है।”

तपती धरती के पीछे क्या हैं वजहें?
स्काइमेट के महेश पलावत मानते हैं कि आमतौर पर वेस्टर्न डिस्टरबैंस (पश्चिमी विक्षोभ- पश्चिम से आने वाली हवाएं) की वजह से मार्च के मौसम में थोड़ी नमी देखने को मिलती है, लेकिन इस बार पाकिस्तान की तरफ से आने वाली हवाएं एकदम शुष्क (सूखी) रहीं। इस वजह से राजस्थान, गुजरात, हरियाणा में तापमान खासा बढ़ा है। इस गर्मी के पीछे अल-निनो या ला-निनो का कोई खास असर नहीं है।

IMD के सीनियर साइंटिस्ट आरके जेनामन कहते हैं कि ‘पाकिस्तान की तरफ से आने वाली हवाएं राजस्थान के रेगिस्तान से होकर गुजरीं तो वो पूरी तरह से शुष्क हो गईं और ये सूखी हवाएं जब आगे बढ़ीं तो उसकी वजह से तापमान सामान्य से काफी ऊपर चला गया। इस तरह की घटना कई सालों में देखने को मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On