YOU MUST GROW INDIA MUST GROW

National Thoughts

A Web Portal Of  Positive Journalism

Motivational Story – Don't wait do some work

Motivational Story – इंतजार मत करो कुछ काम करो

Share This Post

50% LikesVS
50% Dislikes

स्पेशल स्टोरी:एक बार एक गांव में एक साधु रहता था जो भगवान पर बहुत विस्वाश रखता था । यह बार वह साधु पेड़ के निचे बैठा था और भगवान को याद कर रहा था तो अचानक वहाँ बाढ़ आ गयी चारो तरफ पानी ही पानी सब लोग अपने आप को बचने के लिए ऊपर पहाड़ की तरफ भागने लगे।

 साधु ने कहा मैं भगवान की इतनी तपस्या करता हूँ मुझे कुछ नहीं हो सकता :
उनमे से एक आदमी देखा की इस हालत में भी साधु जी भगवान की तपस्या कर रहे है वह सोचा की ये अपने आप को बचने के लिए कही जा क्यों नहीं रहे है तो उसे साधु से बोला अरे आप कही जा क्यों नहीं रहे हो आप भी मेरे साथ ऊपर पहाड़ की तरफ चलो नहीं तो डूब जाओगे
साधु बोले अरे हमें क्या होगा मैं भगवान की इतनी तपस्या करता हूँ मुझे कुछ नहीं हो सकता मुझे भगवान अपने आप बचाएगा।
अब पानी साधु के कमर तक आ गया था :
धीरे धीरे पानी साधु के कमर तक आ गया अब लोग वहाँ से नाव लेकर निकलने लगे तो उनमे से एक ने साधु से कहा अरे पानी आपके कमर तक आ गया है आप हमारे साथ चलो तो साधु ने कहा की नहीं-नहीं भगवान मुझे अपने आप बचाएगा और वह नाव वाला भी वहाँ से निकल गया।
एक हेलीकाप्टर साधु के पास आया जो की आखरी हेलीकाप्टर था : 
कुछ देर बाद पानी इतना बढ़ गया की साधु के सर तक पहुंच गया और अब लोगो को बचने के लिए हेलीकाप्टर निकलने लगे। एक हेलीकाप्टर साधु के पास आया जो की आखरी हेलीकाप्टर था साधु के पास निचे रस्सी फेंकी और बोला इसे पकड़ो और ऊपर आ जाओ नहीं आप डूब जाओगे यह आखरी हेलीकाप्टर है और आपके पास में दूसरा कोई रास्ता नहीं है बचने के लिए।
साधु की भी डूबने से मौत हो गयी : 
साधु ने कहा यह रस्सी वापस ऊपर खींच लो और आप चले जाओ मुझे भगवान के ऊपर पूरा भरोसा है वह मुझे बचा लेगा। पानी काफी ऊपर आ गया पेड़ डूब गया और साधु की भी डूबने से मौत हो गयी।
मरने के बाद साधु ने भगवान से पूछा : 
मरने के बाद साधु भगवान के पास गया और बोला हे भगवान मैंने पूरी ज़िंदगी आपकी तपस्या की मेरा सारा जीवन आपकी आराधना करने में लगा दिया फिर भी इतने भरोसे के साथ इंतजार किया की तुम मुझे बचने आओगे लेकिन वहाँ मेरी डूब कर मौत हो गयी और तुम नहीं आये ऐसा क्यों।
मैं तो आया था पर तुमने मुझे पहचाना ही नहीं : 
भगवान बोले मुर्ख इंसान एक नहीं तीन बार आया था वो तीनो बार मैं ही तो था पहला पैदल, दूसरा नाव के द्वारा, और तीसरा हेलीकाप्टर के द्वारा लेकिन तुमने मेरा एक भी अवसर पहचान नहीं पाया पता नहीं किसका इंतजार कर रहा था।

खबरें और भी है

Please select a default template!