You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

MP Manoj Tiwari inaugurated the 6th National Physical Education and Sports Science Conference

छठे राष्ट्रीय फिजिकल एजुकेशन एवं स्पोर्ट्स साइंस सम्मेलन का सांसद मनोज तिवारी ने किया उद्घाटन

Share This Post

सांसद मनोज तिवारी ने किया छठे राष्ट्रीय फिजिकल एजुकेशन एवं स्पोर्ट्स साइंस सम्मेलन का उद्घाटन
न्यूज़ डेस्क ( नेशनल थॉट्स ) : मुख्य अतिथि मनोज तिवारी (सांसद, उत्तर-पूर्व दिल्ली) ने शुक्रवार को छठे राष्ट्रीय फिजिकल एजुकेशन एवं स्पोर्ट्स साइंस सम्मेलन का उद्घाटन किया। फिजिकल एजुकेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पेफ़ी) भारत सरकार के खेल एवं युवा मंत्रालय के सहयोग से नई दिल्ली के संसद मार्ग स्थित एनडीएमसी के कन्वेंशन सेंटर में दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन कर रहा। सम्मेलन के पहले दिन का आकर्षण कोविड महामारी के बाद खेलों एवं शारीरिक शिक्षा को नए सिरे से जागरण रहा।
पूर्व में रह चुके है शारीरिक शिक्षक – मनोज तिवारी
उद्घाटन करने के बाद सांसद मनोज तिवारी ने कहा, “आज भले ही मैं सांसद हूं लेकिन कभी मैं भी एक शारीरिक शिक्षक था और जानता हूँ कि शारीरिक शिक्षा और शिक्षक का क्या महत्व है। शारीरिक शिक्षक किसी भी स्कूल की रीढ़ होता है और देश के चैंपियन खिलाड़ियों की कामयाबी में बड़ी भूमिका का  निर्वाह करता है।”
सम्मान और अधिकार दिलाना जरूरी 
एक अच्छे क्रिकेट खिलाड़ी और सिनेमा कलाकार रहे श्री तिवारी ने पेफ़ी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन के प्रयासों को सराहा और माना कि इस दिशा में अभी बहुत सा काम करना बाकी है। सबसे पहले शारीरिक शिक्षकों को उनका सम्मान और अधिकार दिलाने की जरूरत है।
शारीरिक शिक्षकों का क्या महत्व है – आनंदेश्वर पाण्डेय
भारतीय ओलम्पिक संघ के कोषाध्यक्ष आनंदेश्वर पांडे का मानना है कि किसी भी स्कूल में प्रिंसिपल के बाद यदि किसी की सबसे ज्यादा पूछ होनी चाहिए,  तो वो निसंदेह फिजिकल टीचर है। लेकिन उन्होने अफ़सोस व्यक्त किया कि देश में शारीरिक शिक्षा को महत्व नहीं दिया जा रहा। कागजों में तो बहुत कुछ हो रहा है लेकिन धरातल पर खेल नीति भी नहीं बन पाई है। नतीजन अच्छे खिलाड़ी पैदा नहीं हो पा रहे। उनकी राय में जब तक हम शिक्षकों को महत्व नहीं देंगे भारत खेल महाशक्ति नहीं बन सकता, क्योंकि खिलाड़ी की असली ताकत यही शिक्षक हैं। संयोग से पांडे भी फिजिकल टीचर रहे हैं।
खिलाडियों की बुनियाद स्कूल स्तर पर हीं बनती है 
पेफ़ी के कार्यकारी अध्यक्ष डॉक्टर अरुण उप्पल ने टोक्यो ओलंम्पिक में भारत द्वारा जीते गए सात पदकों का बड़ा श्रेय शारीरिक शिक्षकों को दिया और कहा कि पदक जीतने वाले खिलाड़ियों की बुनियाद स्कूल स्तर पर ही मजबूत बन गई थी। संभवतया उन्हें समर्पित शिक्षको ने मदद की होगी। बाद में हमारे और विदेशी कोचों ने उन्हें आगे बढाया।
 
स्पोर्ट्स और फिजिकल एजुकेशन दोनों ही एक-दूसरे के पूरक
हॉकी द्रोणाचार्य अजय बंसल को यह बात खलती है कि हम सालों साल स्पोर्ट्स और फिजिकल एजुकेशन को अलग-अलग समझते हैं, जबकि दोनों ही एक-दूसरे के पूरक हैं। लेकिन देश में स्पोर्ट्स कल्चर की जरूरत है, जोकि स्कूल के खेल टीचर को सम्मान देने से ही बन सकता है।  आईजीआई फिजिकल कालेज के प्रिंसिपल डॉक्टर संदीप तिवारी इस बात से नाराज हैं कि शारीरिक शिक्षा को किसी भी स्तर पर बढ़ावा नहीं दिया जा रहा। सब कुछ सिर्फ कागजों में चल रहा है जोकि झूठ साबित होता है।
 
इन सभी प्रतिष्ठित लोगों ने अपने विचार रखें 
दिल्ली सरकार के उप निदेशक संजय कुमार, गुजरात के प्रोफेसर वैभवभट्ट, त्रिवेंद्रम एलएनसीपीई के प्रो. (डॉ.) जी. किशोर भी मानते हैं कि शारीरिक शिक्षा और खेल को एक ही चश्मे से देखने की जरूरत है।
खेल एवं शारीरिक शिक्षा के दिग्गजों की राय थी कि फिजिकल एजुकेशन को कंपलसरी सब्जेक्ट बनाया जाना चाहिए। प्रमुख वक्ताओं में लेफ्टिनेंट जनरल (डॉ.) जेएस चीमा, डॉ. जॉर्ज अब्राहिम, प्रो. (डॉ.) संदीप तिवारी, डॉ. पूनम बेनीवाल ने भी उक्त विषय पर अपने-अपने विचार रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On