Advertisment

Narendra Giri Suicide Case: Many secrets revealed from suicide note

Narendra Giri Suicide Case: सुसाइड नोट से खुले कई राज

Share This Post

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on email
जाने क्या लिखा है सुसाइड नोट में :
 

महंत नरेंद्र गिरि ने लिखा कि मैं 13 सितंबर को में आत्महत्या करने जा रहा था लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया | आज जब हरिद्वार से सूचना मिली है कि एक-दो दिन से आनंद गिरि कंप्यूटर के जरिए किसी महिला और लड़की की गलत काम करते हुए फोटो वायरल करने की धमकी दे रहा है | तो मैंने सोचा सफाई दूं मगर बदनामी का डर था | 

 
मैं सम्मान से जी रहा हूं, तो फिर बदनामी से मैं कैसे जिऊंगा | आनंद गिरि का कहना है कि कहां तक सफाई देता रहूंगा | इससे दुखी होकर मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं | मेरी मौत का जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी हैं | प्रयागराज के सभी पुलिस अधिकारियों से मैं अनुरोध करता हूं कि उन पर एक्शन लिया जाए | 
 
इस व्यक्ति को चुना अपना अगला उत्तराधिकारी 
 
महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में महंत बलबीर गिरि को उत्तराधिकारी बनाने की बात कही है | नरेंद्र गिरि की मौत के बाद महंत बलबीर गिरि ने कहा कि महंत जी के साथ जिन लोगों ने ये सब किया है, उन्हें हम अंदर भिजवा कर रहेंगे | हमें कानून पर पूरा भरोसा है | गुरुजी अपनी बातों को किसी को नहीं बताते थे. उन्हें पीड़ा होती थी, तो वे खुद सहन करते थे |

Advertisment

खबरें और भी है ...