You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

New format of hockey: India won the first match, know the new rules

Hockey का नया फॉर्मेट : भारत ने जीता पहला मैच, जानें नए नियम

Share This Post

हॉकी के नए फॉर्मेट में टीम इंडिया ने जीता पहला मैच 
 
न्यूज डेस्क ( नेशनल थॉट्स ) : टीम इंडिया ने हॉकी के नए फॉर्मेट का पहला मैच जीत लिया है। उसने शनिवार को 5 ए-साइड मैच में स्विट्जरलैंड को 4-3 से हराया। पाकिस्तान से मैच 2-2 से ड्रॉ रहा। पहली बार इंटरनेशनल लेवल पर 5 ए-साइड हॉकी टूर्नामेंट खेला जा रहा है। यह प्रतियोगिता इस फॉर्मेट के माध्यम से हॉकी को लोकप्रिय बनाने की मुहिम का हिस्सा है।
 
 
2013 में शुरू हुआ था सबसे छोटा फॉर्मेट 

FIH ने सबसे पहले 2013 में हॉकी का सबसे छोटा फॉर्मेट लागू किया था। लेकिन, यह तब 6 ए-साइड हॉकी होता था और इसमें जूनियर और यूथ टीमें ही हिस्सा लेती थीं। 2014 और 2018 के यूथ ओलंपिक गेम्स के मुकाबले भी आयोजित किए गए थे। अब इसे 5 ए-साइड कर दिया गया है और पहली बार सीनियर टीमें खेल रही हैं। ये मैच इनडोर टर्फ में खेले जा रहे हैं।

जाने क्या है हॉकी का नया फॉर्मेट :-

  • टर्फ का साइज : इस फॉर्मेट की हॉकी टर्फ नार्मल हॉकी टर्फ से आधी होती है। हालांकि यह टूर्नामेंट पर भी डिपेंड करता है। यह ज्यादा से ज्यादा 55 मी. x 42 मी. होगा और कम से कम 40 मी. x 28 मी. होगा। जबकि नार्मल साइज 91 मी. x 55 मी.होता है।
  • गोल पोस्ट : 3.66 मी. चौड़ा और 2.14 मी. ऊंचा रहेगा। जबकि नार्मल साइज 6 मी. चौड़ा और 2.14 मी. ऊंचा होता है।

  • डी नहीं होती: कोई डी या अर्धवृत्त नहीं होता है। बैकलाइन के समानांतर एक मध्य रेखा से कोर्ट दो हिस्सों में बंटा होता है। दो क्वार्टर लाइन हर हॉफ को दो बराबर हिस्सों में बांटती है।
  • कहीं से भी गोल: इस फॉर्मेट में खिलाड़ी मैदान में कहीं से भी गोल कर सकता है। जबकि अभी हॉकी में डी के भीतर जाकर गोल करना जरूरी है।

  • बिना गोलकीपर के भी मैच संभव: हर टीम में एक समय मैदान पर पांच खिलाड़ी होते हैं, जिसमें गोलकीपर शामिल है। खिलाड़ी कम होने की स्थिति में बिना गोलकीपर के भी मैच खेला जा सकता है।

  • पेनाल्टी कॉर्नर नहीं होता: नए फॉर्मेट में पेनाल्टी कार्नर नहीं होता। फाउल होने पर शूटआउट मांगा जा सकता है। रेफरी से मांग स्वीकार होने पर विरोधी गोलकीपर के आमने-सामने शूटआउट का मौका मिलेगा।


20 मिनट का मैच

सबसे छोटे फॉर्मेट का एक मैच 20 मिनट का होगा। इसे दो हाफ में बांटा जाएगा। अभी मैच 60 मिनट का होता है। जिसमें 2 हाफ और चार क्वार्टर होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On