You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

Parshuram Jayanti 2022: When is Parshuram Jayanti? Read auspicious time, worship method and importance

Parshuram Jayanti 2022 : जाने कब है परशुराम जयंती? पढिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

Share This Post

कब है परशुराम जयंती ?
 
न्यूज डेस्क ( नेशनल थॉट्स ) : हिंदू पंचांग के अनुसार, वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया के साथ भगवान परशुराम की जयंती भी मनाई जाती है। शास्त्रों के अनुसार, भगवान परशुराम का जन्म वैशाख मास के तृतीया तिथि को प्रदोष काल में हुआ था। भगवान परशुराम को भगवान विष्णु का छठा स्वरूप माना जाता है। कहा जाता है कि भगवान परशुराम चिरंजीवी है जो आज भी जीवित हैं।
 
 
 
परशुराम जयंती का शुभ मुहूर्त

  • तृतीया तिथि का प्रारंभ- 3 मई,मंगलवार सुबह 5 बजकर 20 मिनट से शुरू
  • तृतीया तिथि समाप्त- 4 मई 2022, बुधवार सुबह 7 बजकर 30 मिनट तक।

परशुराम जयंती की पूजा विधि

  • ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सभी कामों से निवृत्त होकर स्नान कर लें। 
  • इसके बाद साफ कपड़े पहनकर मंदिर या घर की साफ-सुथरी जगह पर एक चौकी में कपड़ा बिछाकर भगवान परशुराम की तस्वीर या फिर मूर्ति स्थापित करें। 
  • इसके बाद जल, चंदन, अक्षत, गुलाल, फूल आदि चढ़ाएं। 
  • इसके बाद भगवान को तुलसी दल भी चढ़ाएं। 
  • भोग में मिठाई, फल आदि जलाएं। 
  • घी का दीपक और धूप जलाकर आरती कर लें। 


 
परशुराम जयंती का महत्व
 
माना जाता है कि भगवान परशुराम का जन्म धरती से अन्याय को खत्म करने के लिए हुआ था। भगवान परशुराम के पिता का नाम जमदग्नि और माता का नाम रेणुका था। भगवान परशुराम को भगवान शिव का एकमात्र शिष्य माना जाता है। मान्यता है कि भगवान परशुराम ने कठोर तपस्या करके महादेव को प्रसन्न करके किया था। इसके उपरांत ही उन्हें परशु (फरसा) मिला था।

 
tags 
#spiritual, #puja path, #Parshuram Jayanti 2022, #parshuram jayanti puja vidhi, #parshuram jayanti shubh muhurat, #Parshuram Jayanti kab hai ,#कब है परशुराम जयंती ,#परशुराम की पूजा विधि, #परशुराम जयंती शुभ मुहूर्त ,#Spirituality

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On