YOU MUST GROW INDIA MUST GROW

National Thoughts

A Web Portal Of  Positive Journalism

Press Council of India: Celebrating the 75th year of India's independence, the 'Amrit Mahotsav of Independence' deliberated on the 'Role of Media in Nation Building'

भारतीय प्रेस परिषद: भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हुए राष्ट्र निर्माण में मीडिया की भूमिका’ पर विचार किया

Share This Post

50% LikesVS
50% Dislikes
न्यूज डेस्क (नेशनल थॉट्स) : भारतीय प्रेस परिषद ने “राष्ट्र निर्माण में मीडिया की भूमिका” विषय पर नई दिल्ली स्थित स्कोप कन्वेंशन सेंटर में आज राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया। केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण, युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे और उन्होंने “नॉर्म्स ऑफ जर्नलिस्ट कंडक्‍ट, 2022” का विमोचन किया। भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष  आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हुए, गणमान्य व्यक्तियों ने ‘राष्ट्र निर्माण में मीडिया की भूमिका’ पर विचार किया, ताकि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ भारतीय मीडिया को समझने, उसका विश्लेषण करने और उसके मानकों को संरक्षित करने का रास्ता आसान बनाने के स्वीकार्य तरीकों का पता लगाया जा सके।
 
राष्ट्रीय प्रेस दिवस क्यों शुरू किया था :राष्ट्रीय प्रेस दिवस भारत में एक स्वतंत्र और जिम्मेदार प्रेस का प्रतीक है। यह वह दिन था जिस दिन भारतीय प्रेस परिषद ने यह सुनिश्चित करने के लिए एक नैतिक प्रहरी के रूप में कार्य करना शुरू किया था कि न केवल शक्तिशाली माध्यम प्रेस अपेक्षित उच्च मानकों को बनाए रखें बल्कि यह किसी बाहरी कारकों के प्रभाव या खतरों से नहीं रुके। हालांकि दुनिया भर में कई प्रेस या मीडिया परिषदें हैं, भारतीय प्रेस परिषद एक अद्वितीय संगठन है क्योंकि यह एकमात्र संगठन है जो प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा करने के अपने कर्तव्य में देश के साधनों पर भी अधिकार का प्रयोग कर सकता है।
 
मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर महोदय ने कहा : “हमारी सरकार इन और अन्य चुनौतियों से निपटने के लिए मीडिया को सक्षम बनाने में विश्वास करती है।प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी के विजन को ध्यान में रखते हुए, हमने छोटे और मध्यम समाचार पत्रों व पत्रिकाओं के साथ-साथ संस्कृत और भारतीय भाषाओं जैसे बोडो, डोगरी, खासी, कोंकणी, मैथिली, मणिपुरी, मिजो, आदि में छपने वाले समाचार पत्रों को हर संभव सहायता प्रदान की है। उपेक्षा और भेदभाव की किसी भी भावना को दूर करने के लिए, हम जम्मू और कश्मीर तथा पूर्वोत्तर में मीडिया तक पहुंचे हैं।”

खबरें और भी है