Advertisment

Sagar in Gagar – 57

गागर में सागर – 54

Share This Post

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on email

एक ही वस्तु-देखने वाले की भावना के अनुसार
अलग-अलग दिख सकती है
किसी को गिलास आधा भरा दिखता है
किसी को वही आधा खाली दिखता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment

खबरें और भी है ...