You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

Special Story: From Kuwait Airlift to Operation Ganga, India's five biggest rescue operations

Special Story : कुवैत एयरलिफ्ट से लेकर ऑपरेशन गंगा तक, भारत के पांच सबसे बड़े रेस्क्यू ऑपरेशन

Share This Post

भारत सरकार के बचाव अभियान 
 
न्यूज डेस्क ( नेशनल थॉट्स ) : कोरोना वायरस महामारी के समय से लाखों भारतीयों को सुरक्षित घर लाने से लेकर यूक्रेन में छिड़ी जंग से भारतीयों को बचाने तक | 
आइए पढ़ते है भारत के सबसे बड़े पांच एयरलिफ्ट ऑपरेशन के बारे में :- 
 
रूस का यूक्रेन पर हमला आज भी जारी है और ऐसे वॉर के हालात में, कई दूसरे देशों के नागरिक भी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। भारत ने ऑपरेशन गंगा के साथ अपने बचाव अभियान को तेज कर दिया है। ऐसा करके, एक बार फिर भारत ने यह साबित कर दिया है कि अपने नागरिकों की सुरक्षा हमेशा देश के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता थी, है और रहेगी।
 
1. वंदे भारत मिशन

यह मिशन साल 2020 में कोरोना वायरस महामारी के बीच विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए शुरू किया गया था। यह किसी भी दूसरे देश के रेस्क्यू मिशन से काफी ज्यादा बड़ा था। मई 2020 में शुरू हुए इस ऑपरेशन के जरिए 15 से अधिक चरणों में 18 लाख से अधिक नागरिकों को वापस घर लाने का काम किया गया। यह मिशन 2021 तक चला। न सिर्फ फ्लाइट्स, बल्कि नौसेना के जहाजों ने भी 3,987 भारतीयों को घर वापस  लाने का काम किया। अगस्त 2021 तक लगभग 30,000 उड़ानें, इस मिशन का हिस्सा बन चुकी थीं।

2. ऑपरेशन राहत 

अप्रैल 2015 में, यमन सरकार और हौथी विद्रोहियों के बीच संघर्ष शुरू हो गया था। ऐसे में, हवाई बमबारी और युद्ध में कई भारतीय भी फंसे हुए थे। तब भारत ने अपने नागरिकों को वापस लाने के लिए ‘ऑपरेशन राहत’ चलाया था। सरकार ने यमन से 6,688 लोगों को निकाला, जिनमें 4,741 भारतीय और 1,947 विदेशी शामिल थे। इन लोगों को हवाई और समुद्री रास्ते, वापस लाया गया। भारत ने उस समय ब्रिटेन, फ्रांस, संयुक्त राज्य अमेरिका और पाकिस्तान के नागरिकों को भी बचाया था।
 

3. ऑपरेशन मैत्री 

‘ऑपरेशन मैत्री’ भारत सरकार और भारतीय सशस्त्र बल का संयुक्त राहत व बचाव अभियान था, जिसमें लगभग 5,000 भारतीयों को वायु सेना और नागरिक विमानों से नेपाल से वापस देश लाया गया था। भारतीय वायु सेना ने भूकंप के कुछ ही मिनटों बाद, एक अच्छे पड़ोसी देश होने के नाते, काठमांडू को राहत सामग्री पहुंचाने का काम भी किया। 7.8 तीव्रता वाले भूकंप में, लगभग 8,000 से अधिक लोग मारे गए थे। यह साल 1934 के बाद, नेपाल की सबसे घातक प्राकृतिक आपदा थी।

4. कुवैत एयरलिफ्ट 


‘वंदे भारत मिशन’ के बाद, यह भारत सरकार का दूसरा सबसे बड़ा बचाव अभियान था। कुवैत पर इराकी हमले के बाद, इसे अगस्त और अक्टूबर के बीच 1990 में शुरू किया गया था। जिसके तहत, करीबन 1,75,000 लोगों को बचाने के लिए एयर इंडिया और अन्य विमानों को तैनात किया गया था। इतनी बड़ी संख्या में लोगों को एयरलिफ्ट करने के लिए एयर इंडिया के इस ऑपरेशन का नाम ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज है।

5. ऑपरेशन होम कमिंग 


साल 2011 में लीबिया में गृह युद्ध छिड़ गया था। लीबियाई कर्नल गद्दाफी और उनके विरोधियों के बीच के झगड़े में कई भारतीय भी फंस गए थे। उस समय 15,400 से अधिक भारतीय नागरिकों को बचाने के लिए ‘ऑपरेशन होम कमिंग’ शुरू किया गया था। लीबिया के पास मिस्र और माल्टा से, नौ विशेष उड़ानों के जरिए भारतीयों को घर वापस लाया गया था। रेस्क्यू के लिए भारतीय नौसेना की मदद भी ली गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On