You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

Sports News : New technology adopting queue in FIFA World Cup, AC installed in open stadium!

Sports News : फीफा वर्ल्ड कप में कतार अपना रहा नई तकनीक, ओपन स्टेडियम में लगाए गए AC !

Share This Post

इस बार कतार में होगा फीफा वर्ल्ड कप  
 
न्यूज डेस्क ( नेशनल थॉट्स ) : विश्व भर में फुटबॉल के दर्शकों की तादाद जैसे – जैसे बढ़ रही है | वैसे ही इसका फीवर लोगों पर चढ़ चुका है | इस साल नवंबर में फुटबॉल फीवर शुरू होगा। कतर में 21 नवंबर से 18 दिसंबर के बीच फीफा वर्ल्ड कप खेला जाएगा। ये पहली बार है जब फुटबॉल वर्ल्ड कप किसी गल्फ कंट्री में खेला जा रहा है।
 
 
दर्शकों की सुविधा के लिए स्टेडियम में लगाये गए 
कतर भी दुनिया के तमाम फुटबॉल फैन्स को यूनिक एक्सपीरिएंस देना चाहता है। उसने अपने 8 स्टेडियम को एयर कंडीशंड बनाया है। इसके लिए करोड़ों डॉलर खर्च किए। दरअसल, खाड़ी देशों में रेगिस्तान होते हैं और यही वजह है कि यहां तापमान बाकी देशों के मुकाबले काफी ज्यादा होता है। ऐसे में खिलाड़ियों और दर्शकों की सुविधा के लिए स्टेडियम में एयर कंडीशनर लगवाए गए हैं।


पहली बार ओपन एयर स्टेडियम को एयर कंडीशंड बनाया 
 
दुनिया में ये भी पहला ही मौका है जब ओपन एयर स्टेडियम को एयर कंडीशंड बनाया जा रहा है। इस काम को अंजाम दिया है डॉ. कूल के नाम से मशहूर मैकेनिकल इंजीनियर डॉ. साउद गनी ने। गनी के मुताबिक, अगर स्टेडियम के बाहर तापमान 52 डिग्री सेल्सियस है तो अंदर का टेम्परेचर 22 डिग्री सेल्सियस ही रहेगा।

खुले मैदान में कैसे लगेंगे एसी?

डॉ. गनी कहते हैं- ओपन एयर स्टेडियम के लिए एयर कंडीशनिंग डिजाइन करना बहुत बड़ा चैलेंज था। गर्म हवा ठंडी हवा की तुलना में हल्की होती है। गर्म हवा ऊपर जबकि ठंडी हवा नीचे रहती है। स्टेडियम में हम इसी ठंडी हवा को रिसाइकिल करेंगे।

कैसे किया?

गनी के मुताबिक, इस किट का टेस्ट करते वक्त सभी सर्विस गेट्स बंद कर दिए गए। नीचे ठंडी हवा की एक लेयर बनाई गई। ऊपर की गर्म हवा तेल की तरह है, लेकिन हम नीचे की ठंडी हवा को रिसाइकिल करेंगे, ताकि ऊपर की गर्म हवा नीचे की ठंडी हवा में मिक्स ना हो। शुरू में यह नामुमकिन जैसा लग रहा था, लेकिन अब हम कामयाब हैं।

चुनिंदा जगहों पर जाएगी ठंडी हवा

टेस्टिंग के दौरान गनी को अहसास हुआ कि उन्हें पूरे स्टेडियम को ठंडा करने की जरूरत नहीं है, बल्कि सिर्फ ग्राउंड और फैन्स स्टैंड्स को कूल करना है। इसके बाद उन्होंने स्पॉट कूलिंग सिस्टम डेवलप करना शुरू किया। फायदा ये हुआ कि सिर्फ टार्गेटेड पॉइंट्स यानी चुनिंदा जगहों को ठंडा करने में कामयाबी मिल गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On