YOU MUST GROW INDIA MUST GROW

National Thoughts

A Web Portal Of  Positive Journalism

Sunkhi Punjaban Season 4 Competition Held

सुनख्खी पंजाबन सीजन 4 प्रतियोगिता का आयोजन किया गया

Share This Post

50% LikesVS
50% Dislikes
नई दिल्ली,न्यूज डेस्क (नेशनल थॉट्स):भारतीय विद्या पीठ इंस्टीट्यूट ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन एंड मैनेजमेंट के ऑडिटोरियम में सुनख्खी पंजाबन सीजन 4 प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें सांस्कृतिक सौंदर्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में गुरजीत कौर ने पहला स्थान हासिल किया। तो वही पहली रनरअप अर्षप्रीत और दूसरी हर्षप्रीत रही। यह दिल्ली में स्थित एक सौंदर्य प्रतियोगिता है जो पंजाबी महिलाओं की प्रतिभा को उजागर करती है।इसमें भाग लेने की आयु सीमा 18-30 के बीच है। साथ ही, प्रतिभागियों को पंजाबी पढ़ना, लिखना और बोलना आना चाहिए।
कैसे हुई सुनख्खी पंजाबन की शुरुआत? : इस अनोखे कार्यक्रम की शुरुवात साल 2019 में हुई इसकी संस्थापक डा. अवनीत कौर भाटिया में थी। जोकि उनकी माताजी देवेंद्र कौर के निर्देश अनुसार की गई, मां चाहतीं थी कि पंजाबी भाषा, रहन सहन को बढ़ावा दिया जाए, आज बेशक वह हमारे बीच नहीं है उनका आशीर्वाद और दुआ हमेशा हमारे साथ है पंजाबी कला और उसकी विरासत को इस कार्यक्रम में सजा कर रखने की भरपूर कोशिश की जा रही है। महिला सशक्तिकरण को मुख्य रखते हुए शो में पंजाबी लड़कियों ने फुलकारी लेकर मंच को खूबसूरत बनाया 20 लड़कियां अपनी खूबसूरती और प्रतिभा से यहां तक पहुंच कर जगह बनाई, जिसमें हमें एक से एक कला देखने को मिला पंजाबी लोक नाच और टैलेंट राउंड में सब सुनख्खी पंजाबनो ने एक से बड़ कर एक कमाल की परफॉर्मेंस दी।
शो में पंजाबी सिनेमा और रेडियो से आई हस्तियां : पंजाबी सिनेमा और रेडियो की हस्तियां मौजूद रही जिसमें पंजाबी सिनेमा के मशहूर अभिनेता जरनैल सिंह के साथ साथ जाने माने कलाकार इसमें शामिल हुए। पुरुस्कार में दिए गए नकद इनाम के साथ फिल्म में काम करने का मौका सुनख्खी पंजाबन के पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहने वाली लड़कियों को स्वर्ण के सग्गी फूल से पुरस्कृत किया जाता है साथ ही इस वर्ष उनको कैलेंडर फोटोशूट, ब्रांड मैनेजर बनने का मौका, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क की ट्रिप और अमृतसर की ट्रिप दी गई यही नहीं पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वाली लड़कियो को सग्गी फूल दिया गया। सग्गी फूल एक पंजाबी लड़की के माथे पर पहनने वाला एक पारंपरिक आभूषण है,यह भी गोल्ड प्लेटेड तीनो स्थान पर रहने वाली कुड़ी गुरजीत, अर्षप्रित और हर्षप्रित को दिया गया। नई पीढ़ी जो अपनी विरासत खो रही है, उसका मतलब है आज की लड़कियां, खासकर दिल्ली की लड़कियां इसी को जागरूक रखने के लिए यह प्रतिवर्ष मनाया जाता है, इस साल इसमें खास बात यह भी हैं, दिल्ली में इस सीजन का भाग बनने के लिए इस साल पंजाब की लड़कियों ने भी भाग लिया।
शो में पूछे गए धर्म से संबंधित सवाल : पंजाबी पोशाक पहने लड़कियों को जज द्वारा पंजाब, पंजाबी और पंजाबियत के बारे में पूछताछ की गई। सवालों के जवाब भी बेहतरीन थे। उसके साथ हर लडकी हो गिफ्ट हैकर्स दे कर शो का समापन हुआ।

खबरें और भी है

Please select a default template!