You Must Grow
India Must Grow

Follow Us On

National Thoughts

A Web Portal Of Positive Journalism

National Thoughts – We Must Grow India Must Grow 

The last Somvati Amavasya of the year is going to fall on 30th May, know what is the importance of this day!

30 मई को पड़ने वाली है साल की आखिरी सोमवती अमावस्या, जानिए क्या इस दिन का महत्व !

Share This Post

30 मई को पड़ेगी आखिरी सोमवती अमावस्या  
 
न्यूज डेस्क ( नेशनल थॉट्स ) : 30 मई 2022 को साल की आखिरी सोमवती अमावस्या है। गौरतलब है कि सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। ऐसा संयोग साल में 2 या कभी-कभी 3 बार भी बन जाता है। इस अमावस्या को हिन्दू धर्म में पर्व कहा गया है। इस दिन पूजा-पाठ, व्रत, स्नान और दान करने से कई यज्ञों का फल मिलता है।
गंगाजल स्नान बहुत ही शुभ माना जाता है 
सोमवती अमावस्या पर तीर्थ स्नान करने से कभी खत्म नहीं होने वाला पुण्य मिलता है। लेकिन कोई तीर्थ स्नान न कर सके तो घर पर ही पानी में गंगाजल की कुछ बूंदे मिलाकर नहाने से भी इसका पुण्य फल मिलता है।
 
 

महाभारत के दौरान भीष्म ने युधिष्ठिर को बताया है महत्व

महाभारत में भीष्म ने युधिष्ठिर को इस दिन का महत्व समझाते हुए कहा था कि, इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने वाला मनुष्य समृद्ध, स्वस्थ और सभी दुखों से मुक्त होगा। ऐसा भी माना जाता है कि स्नान करने से पितर भी संतुष्ट हो जाते हैं।

पीपल के पेड़ की पूजा

पीपल के पेड़ में पितर और सभी देवों का वास होता है। इसलिए सोमवती अमावस्या के दिन जो दूध में पानी और काले तिल मिलाकर सुबह पीपल को चढ़ाते हैं। उन्हें पितृदोष से मुक्ति मिल जाती है। इसके बाद पीपल की पूजा और परिक्रमा करने से सभी देवता प्रसन्न होते हैं।
ऐसा करने से हर तरह के पाप भी खत्म हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी है ...

Advertisment

होम
खोजें
विडीओ

Follow Us On