Advertisment

To express too much in too few words

गागर में सागर :- 16

Share This Post

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on email

कपास के फूल जैसे बनो-सदा बने रहोगे
न खुशबू – न सुंदरता
पर सब के काम आता है
सब का तन ढकता है |

Advertisment

खबरें और भी है ...