Advertisment

Sagar in Gagar – 57

गागर में सागर – 55

Share This Post

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on email

दुःख व क्रोध में
विद्वान भी गलत बोल जाते हैं
इसलिये बात का बुरा मानने से पहले
बात की प्रष्ठभूमि जांच लो |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment

खबरें और भी है ...