Advertisment

TOP BUSINESS NEWS

TOP BUSINESS NEWS – व्यापार से जुड़ी बड़ी खबरें

Share This Post

Share on facebook
Share on linkedin
Share on twitter
Share on email
  • पहाड़ों के पर्यटन पर डबल अटैक, पहले कोरोना, फिर भूस्खलन से 3700 करोड़ का कारोबार ठप, 10 हजार होटल व्यवसायी प्रभावित
पहाड़ों पर कुदरत की दोहरी मार ने पर्यटन व्यवसाय की कमर तोड़ दी है। पहले कोराेना का कहर और फिर भारी बारिश के कारण भूस्खलन और बाढ़ से अर्थव्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। देश के दो बड़े पहाड़ी राज्य उत्तराखंड और हिमाचल में 3700 करोड़ का करोबार ठप हो गया है। 10 हजार से ज्यादा होम स्टे संचालक और होटल व्यवसायी प्रभावित हुए हैं। कई व्यवसायी कर्ज में डूब गए हैं। कई होटल बिकने की कगार पर हैं। दोनों राज्यों में पर्यटन व्यवसाय से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े लगभग 12.5 लाख लोगों की आमदनी का जरिया लगभग ठप हो गया है। उत्तराखंड में भूस्खलन की वजह से अब भी 298 सड़कें बंद हैं। चारधाम यात्रा के सभी रास्ते भूस्खलन के चलते बंद हुए हैं। बारिश को देखते हुए दोनों राज्यों में बड़े पैमाने पर पर्यटकों ने ऑनलाइन बुकिंग कैंसिल कर दी है। कुल मिलाकर इस बार पर्यटन कारोबार पूरी तरह चौपट हो गए हैं।
 
  • अगस्त में सर्विसेज सेक्टर की ग्रोथ साढ़े तीन साल में सबसे ज्यादा, पिछले महीने जारी रही छंटनी लेकिन रफ्तार में आई कमी
कोविड पर रोकथाम के लिए बढ़ते टीकाकरण ने अगस्त में सर्विसेज सेक्टर पर पूरा असर दिखाया। GDP में लगभग 55% का योगदान करने वाले इस सेक्टर की ग्रोथ डेढ़ साल में सबसे ज्यादा रही। IHS मार्किट का पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) अगस्त में 56.7 पर पहुंच गया जो जुलाई में 45.4 था। PMI का 50 से ऊपर रहना बताता है कि बिजनेस एक्टिविटी बढ़ी है, जबकि इंडेक्स का उससे नीचे रहने का मतलब एक्टिविटी में कमी आना होता है। IHS मार्किट के पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स सर्वे के मुताबिक, अगस्त में सर्विस सेक्टर ने चार महीने के बाद ग्रोथ का मुंह देखा है। यह बाजारों के दोबारा खुलने पर बड़ी संख्या में लोगों के घरों से निकलने के अलावा कंपनियों के कामयाब ऐड कैंपेन की वजह से हुआ है।
 
  • अमेरिका के चीन से कपास इंपोर्ट पर पाबंदी के बाद भारत के पास बड़ा मौका, कपड़ा निर्यात को मिल सकती है मजबूती
अमेरिका ने चीन के शिनजिआंग क्षेत्र से कपास के आयात पर पाबंदी लगा दी है | इसकी वजह से भारतीय कपड़ा क्षेत्र के लिए नए अवसर बने हैं | देश के सूती परिधान क्षेत्र के लिए निर्यात के रास्ते खुले हैं | इससे भारतीय कपड़ा का एक्सपोर्ट बढ़ सकता है | कपड़ा निर्यात संवर्धन परिषद (AEPC) के चेयरमैन ए शक्तिवेल ने इस बारे में जानकारी दी | अमेरिका ने श्रम बल से जबरन काम लिए जाने के आरोपों को लेकर जनवरी में चीन के शिनजिआंग क्षेत्र से सूती उत्पादों के आयात पर पाबंदी लगाए जाने की घोषणा की थी | शक्तिवेल ने कहा कि एईपीसी ने चीन से अमेरिका को निर्यात किये जाने वाले 20 कपास परिधान उत्पादों को चिन्हित किया है |
 
  • Cryptocurrency निवेशकों के लिए बड़ी खबर, कानून लाने की तैयारी में सरकार, आपकी कमाई पर कुछ ऐसे लगेगा टैक्स
देश में क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है, लेकिन अभी तक इसके भविष्य को लेकर सरकार ने किसी तरह का फैसला नहीं किया है | फिलहाल इसकी ट्रेडिंग पर लगा बैन वापस लिया जा चुका है और रिजर्व बैंक अपनी खुद की डिजिटल करेंसी पर काम कर रहा है | इस बीच इकोनॉमिक टाइम्स ने विश्वस्त सूत्रों के हवाले से कहा कि सरकार ऐसे कानून लाने पर विचार कर रही है जिसके तहत क्रिप्टोकरेंसी को कमोडिटी की तरह समझा जाए | नए ड्राफ्ट के बिल के मुताबिक क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल हर रूप में कमोडिटी की तरह होगा | चाहे इसका इस्तेमाल पेमेंट के लिए हो या फिर इन्वेस्टमेंट के लिए, यह एक कमोडिटी होगी |
 
  • अगले सप्ताह 1000 करोड़ जुटाएगी Indiabulls हाउसिंग फाइनेंस, 6 सितंबर से मिलेगा निवेशकों को मौका
इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस ने शुक्रवार को कहा कि अगले सप्ताह उसकी सार्वजनिक गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (NCD) के जरिए 1,000 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है. पिछले तीन साल में कंपनी की इस तरह की यह पहली पेशकश होगी | गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) क्षेत्र में आईएलएंडएफएस संकट के बाद मुश्किल समय का सामना करने वाली इंडियाबुल्स हाउसिंग गारंटीशुदा और बिना गारंटी दोनों तरीकों से धन जुटाने की योजना बना रही है | कंपनी का मूल इश्यू आकार 200 करोड़ रुपए होगा जिसमें अन्य 800 करोड़ रुपए तक की राशि को रखने का विकल्प शामिल होगा | कंपनी ने एक बयान में कहा कि सार्वजनिक निर्गम सुरक्षित/और या असुरक्षित, प्रतिदेय, गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर का है, जिसका अंकित मूल्य 1,000 रुपए है. इसमें कहा गया है, ‘‘पहली किस्त के इस इश्यू का मूल आकार 200 करोड़ रुपए का होगा जिसमें 800 करोड़ रुपए तक की और राशि रखने का ग्रीन-शू ऑप्शन होगा. इस प्रकार कुल मिलाकर 1,000 करोड़ रुपए तक जुटाए जाएंगे |
 
  • कोरोना के कारण बदला होमबायर्स का मिजाज, रेडी-टू-मूव फ्लैट पहली पसंद, महंगे घरों में दिलचस्पी बढ़ी
देश में घर खरीदने की योजना बना रहे करीब 80 फीसदी खरीदार पूरी तरह तैयार हो चुके मकान या ऐसे फ्लैट जिनका निर्माण कार्य लगभग पूरा होने वाला है उन्हें ही खरीदना चाहते है, जबकि करीब 20 फीसदी ग्राहक नई शुरू होने वाली परियोजनाओं में फ्लैट खरीदने की इच्छा रखते हैं | उद्योग मंडल भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) और संपत्ती सलाहकार एनरॉक के एक सर्वेक्षण के अनुसार घर खरीदने वाले संभावित ग्राहकों सबसे पहले मूल्य को तवज्जो देते हैं उसके बाद डेवलपर की विश्वसनीयता, परियोजना का डिजाइन और उसका स्थान उनके लिए महत्वपूर्ण होता है | CII और एनरॉक ने इस वर्ष जनवरी से जून के दौरान यह ऑनलाइन सर्वेक्षण किया जिसमें 4,965 लोगों ने भाग लिया |
 
  • 22 लाख करोड़ पहुंचा Tata Group का मार्केट कैप, रिलायंस से 7 लाख करोड़ ज्यादा
शेयर बाजार में तेजी का फायदा टाटा ग्रुप के शेयर्स को भी मिला और टाटा ग्रुप का टोटल मार्केट कैप बढ़कर 22 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया | साल 2021 में टाटा ग्रुप के कई शेयरों में कई गुना तेजी दर्ज की गई है | टाटा टेलिसर्विसेज के शेयर में इस साल अब तक 360 फीसदी की बंपर तेजी दर्ज की गई है | मनी कंट्रोल की रिपोर्ट के मुताबिक, टाटा ग्रुप के सात शेयरों में इस साल 100 फीसदी से ज्यादा की तेजी दर्ज की गई है | टाटा टेलिसर्विसेज में 364 फीसदी, नेल्को में 188 फीसदी, टाटा एलेक्सी में 169 फीसदी, टाटा स्टील BSL में 134 फीसदी, टाटा स्टील में 121 फीसदी, ऑटोमोटिव स्टाम्पिंग एंड असेम्बल में 110 फीसदी, टाटा कॉफी में 100 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है |
 
  • बड़ी खबर- देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी LIC ने अब Bank of India में खरीदा हिस्सा
एलआईसी ने बैंक ऑफ इंडिया में 3.9 फीसदी हिस्सा खरीदा लिया है.एक्सपर्ट्स का कहना है कि अक्सर एलआईसी बैंकों और कंपनियों में हिस्सेदारी खरीदता और बेचता रहता है | अब इस खबर के बाद सोमवार को बैंक के शेयर में तेजी की उम्मीद है | इससे पहले  बैंक ऑफ इंडिया के बोर्ड ने 3,000 करोड़ रुपये की क्यूआईपी के जरिए जुटाने को मंजूरी दे दी थी | एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस फैसले से बैंकों के ग्राहकों पर कोई असर नहीं होगा | हालांकि, बैंक ऑफ इंडिया के शेयर में पैसा लगाने वालों पर असर हो सकता है. सोमवार को शेयर में तेजी की उम्मीद है |
 
  • PAN और आधार को लेकर SEBI का अल्टीमेटम, जुलाई 2017 से पहले का है आपका पैन कार्ड तो जल्दी करें यह काम 

पैन कार्ड को आधार से लिंक करने के लिए 30 सितंबर तक का अल्टीमेटम दिया गया है | इस तारीख तक आधार से लिंक नहीं होने पर आपका पैन कार्ड बंद हो जाएगा | सरकार ने इस बार स्पष्ट निर्देश दिया है | दरअसल, सीबीडीटी (CBDT) यानी केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने इस बारे में निर्देश जारी किया है | अब CBDT के निर्देशों पर अमल करते हुए सेबी यानी भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने इस बारे में निर्देश जारी किया है | जैसा कि आप जानते ही हैं कि वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस वगैरह की तरह आधार कार्ड और पैन कार्ड भी बेहद जरूरी डॉक्यूमेंट्स में शामिल है. इसकी जरूरत आपको अक्सर पड़ती रहती है | किसी भी तरह के वित्तीय लेन-देन में आपको PAN नंबर की जरूरत पड़ती है |

Advertisment

खबरें और भी है ...